पागद धजगीत
(प्राकृत ध्वज गीत)

.

.

.

पंचवण्णमय जेण्हधजो जयदु जयदु जयदु

सव्व -भव्व – मंगलयारी जयदु जयदु जयदु  (1)

सव्व विग्घणासणयारी जयदु जयदु जयदु

जिणमदमंगलचिण्हं एदं जयदु जयदु जयदु  (2)

अणेयंतमयधम्मो लोए जयदु जयदु जयदु

सच्च – अहिंसा – विजय पडागा जयदु जयदु जयदु  (3)

मंगलमय जिणसासण चिण्हं जयदु जयदु जयदु

घरे घरे जिणधम्म – पडागा जयदु जयदु जयदु  (4)

भारददेसे संतिकेदू जयदु जयदु जयदु

एसा विजयंती विस्सम्मि जयदु जयदु जयदु  (5)

हिन्दी अर्थ:

पंच वर्णमय जैन ध्वज जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

सभी भव्यों को मंगलकारी वह ध्वज जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

सभी विघ्नों को नाश करने वाला वह ध्वज जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

जिनमत का मंगल चिन्ह यह ध्वज जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

लोक में अनेकान्तमय धर्म का ध्वज जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

सत्य, अहिंसा की विजय पताका जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

मंगलमय जिनशासन का चिन्ह जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

घर  घर में जिनधर्म पताका जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

भारतदेश में शांति की ध्वजा जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

यह ध्वजा विश्व मे जयवंत हो, जयवंत हो, जयवंत हो।

Posted in Prakrat Stuti.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.