ॐ अर्हं बोल

.

ॐ अर्हं, ॐ अर्हं, ॐ अर्हं बोल
सभी कार्य की सिद्धि से तू
पहले उसको बोल

ॐ अर्हं…

.

जिसने भी यह मंत्र पढ़ा, दुःख सारा ही दूर किया
जिसने भी इसको ध्याया, सुख का पारावार लिया
उसकी महिमा उसकी शक्ति, नहीं सका कोई तौल।1।
ॐ अर्हं…

.

भोजन से पहले तू ध्याले, चलते फिरते भी तू गाले।
सोने से पहले, जग कर के, इस मन को नाद सुनाले
सिद्ध शुद्ध अविरुद्ध मंत्र से, तू अपना मुख खोल।2।
ॐ अर्हं…

.

दुराचरण को दूर भगाए, सोता तेरा भाग्य जगाए
ध्यान साधना इसकी करके, मानव अपना भाग्य बनाए
तन मन आतम शुद्धि करे ये, महिमा है अनमोल।3।
ॐ अर्हं..

Posted in Bhajan.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.