णमोकार मय सारा जीवन

णमोकार मय सारा जीवन बना लो ।

महामंत्र के चेतन को सजा लो ॥

1. णमोकार के पंच परमेष्ठी प्यारे ।

भरे शुद्ध भावों से जग में हैं न्यारे ॥

महामंत्र की शक्ति निज में मिला लो ।

महामंत्र से चेतना को सजा लो ॥ णमोकार……

2. रहे ज्ञान ही ज्ञान में मेरा ध्यान ।

महामंत्र सब दुःख हर ले महान ॥

सभी हो सुखी और सबका भला हो ।

महामंत्र से चेतना को सजा लो ।। णमोकार……..

3. न तन में हो रोग, न मन में अशान्ति ।

हो सारे जहाँ में परम शान्ति शान्ति ॥

परम शान्ति अर्हम् सभी को मिला लो ।

महामंत्र से चेतना को सजा लो ॥ णमोकार……

Posted in Bhajan.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.